त्वचा का रूखापन दूर करने के लिए घरेलू नुस्खे

त्वचा का रूखापन दूर करने के लिए घरेलू नुस्खे

त्वचा शरीर के सौन्दर्य का आधार होती है। सामान्यत: त्वचा तीन तरह की होती है, तैलीय, शुष्क  तथा सामान्य, इनमें शुष्क त्वचा अधिक समस्या उत्पन्न करती है तथा इसे विशेष देखरेख की आवश्यकता होती है। रूखी त्वचा के उपचार के लिए सबसे पहले घरेलू नुस्खों (Beauty tips for Dry Skin in Hindi) को ही अपनाया जाता है। क्योंकि सही तरीके से अगर इसका इस्तेमाल किया गया तो साइड इफेक्ट होने की संभावना कम होती है.

हमारी त्वचा हमारे भीतर के स्वास्थ्य को परिलक्षित करती है कहने का मतलब ये है कि शरीर स्वस्थ होगा तो त्वचा भी साफ निखरी एवं दमकती हुई दिखाई देगी। संतुलित आहार, नियमित जीवनशैली, अपनाकर स्वस्थ जीवन जिया जा सकता है इसके विपरीत अस्वस्थ जीवन शैली एवं आहार के कारण बीमार होने की संभावना ज्यादा होती है जिसके कारण त्वचा से चमक  चली जाती है। लेकिन घरेलू नुस्ख़ों का इस्तेमाल करने से त्वचा की खोई हुई रौनक वापस आ सकती है।

रूखी त्वचा क्या होती है (What is Dry Skin)

जब त्वचा रूखी और बेजान हो जाती है या सफेद पपड़ी जैसा निकलने लगता है.

तब उसको रूखी त्वचा (dry skin) कहते हैं।

त्वचा के रूखेपन का कारण (Causes of Dry Skin)

त्वचा का रूखापन शरीर में न सिर्फ पौष्टिकता की कमी के कारण होती है बल्कि और भी कई कारण है .

जिसके कारण ये समस्या होती है।

  • . चेहरे की रूखी त्वचा (Dry Skin on face) सर्दियों के मौसम में और भी ज्यादा शुष्क हो जाती है.
  • जिसमें इसे अतिरिक्त देखभाल की जरूरत होती है। कई बार त्वचा प्राकृतिक रूप से शुष्क नहीं होती है .
  • जबकि अन्य कारणों से रूखी हो जाती है। जैसे-त्वचा पर साफ करने के लिए जिस साबुन या क्लींजर का प्रयोग किया जाता है .
  • उसका त्वचा पर सीधा प्रभाव पड़ता है, अगर कठोर साबुन का प्रयोग किया .
  • तो इसमें मौजूद हानिकारक तत्व नमी को खत्म कर त्वचा को और शुष्क (Home remedies for Dry skin) बना देंगे।
  • ज्यादा समय तक सूर्य के सम्पर्क में रहना। सूर्य की हानिकारक अल्ट्रावॉयलेट किरणें त्वचा को नुकसान पहुँचाने के साथ-साथ त्वचा को शुष्क भी बनाती है। .
  • ये किरणें त्वचा की आंतरिक सतह में जाकर कोलेजन के निर्माण में अवरोध पैदा करती है .
  • और परिणाम स्वरूप त्वचा सूखने लगती है।
  • अगर आप लम्बे समय तक किसी बीमारी से ग्रस्त है.
  • विभिन्न प्रकार की एलोपैथिक दवाओं का सेवन कर रहे है तो इसके हानिकारक प्रभाव आप की त्वचा पर भी दिखेंगे।
  • (Causes of Dry Skin)

  • हमेशा गरम पानी से स्नान करने से भी त्वचा शुष्क रहती है।
  • गरम पानी के त्वचा के सम्पर्क में आने सेएपिडरमीस यानि त्वचा की पहली परत भी प्रभावित होती है .
  • जिसके कारण त्वचा शुष्क (Home remedies for Dry skin) हो जाती है।
  • हाइपोथॉयराडिज्म नामक बीमारी से ग्रस्त होने के कारण भी त्वचा शुष्क रहती है।
  • इस समस्या मेंथॉयरायड या अवटुग्रंथि कम मात्रा में थॉयरायड का निर्माण करती है .
  • जिस कारण त्वचा में स्थित पसीने की ग्रंथियाँ प्रभावित होती है और त्वचा में नमी का अभाव हो जाता है।
  • स्वीमिंग पूल में अधिक देर तक तैरने से त्वचा की नमी खो जाती है। यह पानी क्लोरीन युक्त होता है .
  • तथा त्वचा के सम्पर्क में आने से त्वचा की नमी कम होने लगती है।
  • त्वचा रूखी होने का एक कारण उम्र बढ़ना भी हो सकता है।
  • उम्र बढ़ने के साथ-साथ त्वचा में कोलेजन का निर्माण कम होने लगता है और परिणामस्वरूप त्वचा शुष्क होती चली जाती है।

रूखी त्वचा वालों के लिए आहार योजना (Diet Plan for Dry Skin in Hindi)

त्वचा का रूखापन काफी हद तक आहार योजना पर भी निर्भर करता है।

अगर आहार योजना सही नहीं होगा तो त्वचा पर भी उसका सीधा असर पड़ेगा। इसलिए शरीर वात,

पित्त या कफ किस प्रकृति का है इस पर आहार योजना होनी चाहिए नहीं तो त्वचा पर उसका उल्टा असर पड़ता है।

  • अपनी प्रकृति का निरीक्षण कर उसके अनुसार भोजन करें। शुष्क त्वचा की समस्या वातज प्रकृति के व्यक्ति में देखी जाती है अतःवातशामक आहार करें और त्वचा पर वातशामक तेलों से मसाज करें।
  • भोजन में फल और सब्जियों का इस्तेमाल करें जिससे शरीर को आहारीय रेशे पर्याप्त मात्रा में मिलें। इससे पाचन तंत्र ठीक होकर व्यक्ति स्वस्थ रहता है और अच्छे स्वास्थ्य के परिणामस्वरूप त्वचा अच्छी होती है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *