Baby care tips in winter: सर्दियों में बच्चों का यूं रखें ख्याल

Baby care tips in winter: सर्दियों में बच्चों का यूं रखें ख्याल

किसी भी नवजात शिशु के लिए सर्दी का मौसम चुनौती भरा होता है। ठंडे माहौल में वायरस और बैक्टीरिया तेजी से बढ़ते हैं .

और छोटे बच्चों को बीमार बनाते हैं। शिशुओं की रोग प्रतिरोधक क्षमता वयस्कों से बहुत कम होती है,

इसलिए उन पर इन वायरस और बैक्टीरिया का असर बहुत ज्यादा होता है। यही कारण है.

कि शिशुओं का ख्याल सर्दियों के दौरान ज्यादा रखना पड़ता है।

छोटे बच्चों की त्वचा बहुत कोमल होती है। सर्द मौसम की ठंडी और शुष्क हवा उनकी त्वचा की नमी छीन सकती है,

जिससे उन्हें कई तरह की त्वचा संबंधी परेशानियां हो सकती हैं, इसलिए छोटे बच्चों के लिए त्वचा की देखभाल बहुत जरूरी है।

छोटे बच्चों की त्वचा रखें दुरुस्त

स्नान

  • वैसे तो शिशु को रोज नहलाना जरूरी है, मगर यदि ठंड बहुत ज्यादा है, तो आप शिशु को हर दूसरे दिन नहला सकते हैं।
  • गुनगुने पानी में सॉफ्ट एंटीबैक्टीरियल लिक्विड डालकर उसमें नर्म तौलिया भिगोंकर उनका शरीर साफ कर दें।
  • मगर इस दौरान यह ध्यान रखें कि शिशु के कपड़े रोजाना दिन में कम से कम 2 बार जरूर बदलें।
  • ज्यादा समय तक एक ही कपड़ा पहनाने से उन्हें त्वचा संक्रमण हो सकता है।

तेल से मालिश करें

  • शिशु को नहलाने के बाद उनके शरीर की मालिश जरूरी है। बच्चों की मालिश के लिए आप बादाम के तेल,
  • ऑलिव के तेल या नारियल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • इन सभी तेलों में त्वचा को स्वस्थ रखने वाले पोषक तत्व होते हैं। इसके अलावा ये तेल त्वचा को नम रखते हैं।
  • ध्यान दें कि बच्चों की नाजुक त्वचा पर कभी भी बाजार में मिलने वाले केमिकलयुक्त प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल न करें।

ज्यादा गर्म पानी से न नहलाएं

  • कई बार माताएं यह  गलती करती हैं कि ठंड के मौसम में शिशु को सर्दी-जुकाम के खतरों से बचाने के लिए बहुत गर्म पानी से नहला देती हैं।
  • मगर आपको बता दें कि गर्म पानी शिशु की त्वचा के लिए खतरनाक हो सकता है।
  • गर्म पानी ठंडे मौसम में शरीर को अच्छा जरूर लगता है, मगर ये त्वचा की प्राकृतिक नमी को छीन लेता है।
  • इसलिए सादे पानी में थोड़ा सा गर्म पानी मिलाकर, इसके तापमान को सामान्य कर लें, मगर बहुत गर्म न करें।

सही उत्पाद करें इस्तेमाल

  • शिशुओं की त्वचा बड़ों से बहुत अलग होती है इसलिए उनकी त्वचा की जरूरतें भी अलग होती हैं।
  • अगर आप शिशुओं की त्वचा पर बड़ों के लिए इस्तेमाल होने वाले उत्पादों का इस्तेमाल करेंगे,
  • तो उनकी त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है। बाजार में बच्चों के लिए अलग से साबुन, क्रीम,
  • पाउडर और मॉइश्चराइजर उपलब्ध होते हैं,
  • जिनका इस्तेमाल आप शिशुओं के लिए कर सकते हैं। मगर यहां यह ध्यान देने की जरूरत है .
  • कि किसी अच्छे और विश्वसनीय ब्रांड के ही प्रोडक्ट्स लें। बाजार में बहुत सारे सस्ते बेबी उत्पाद आपको ऐसे भी मिलेंगे,
  • जिनमें सुरक्षा गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखा जाता है।

मॉइश्चराइजर हो सही

  • रोजाना दिन में कम से कम 2 बार शिशु की त्वचा को मॉइश्चराइज करने के लिए मॉइश्चराइजर लगाना भी जरूरी है।
  • शिशु के लिए उत्पाद खरीदते समय हमेशा इसके तत्वों को पढ़ लें।
  • आपको बच्चों के लिए हमेशा प्राकृतिक उत्पादों को ही चुनना चाहिए।
  • मॉइश्चराइजर के प्रयोग से त्वचा को नमी मिलती है और रुखेपन से छुटकारा मिलता है।
  • मॉइश्चराइजर हल्के हाथों से लगाएंगे तो त्वचा नरम रहेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *